Muharram Julus 2020 – मोहर्रम के जुलुस पर सुप्रीम कोर्ट का क्या फैसला रहा?

0
muharram

Muharram Julus 2020 मुहर्रम कैसे मनाया जाता है?

मुहर्रम को शिया मुसलमानों के समुदाय द्वारा हज़रत इमाम हुसैन की शहादत को याद करने और शोक व्यक्त करने का काल माना जाता है, जो मुहर्रम की पहली रात से शुरू होता है और अगले 2 महीनों और 8 दिनों तक जारी रहेगा। त्योहार के पहले दस दिनों में महत्व की अधिक मात्रा रखी जाती है।

समुदाय मुहर्रम के शुरुआती दिन काले कपड़े पहनता है और नमाज़ अदा करता है। काला रंग शोक का रंग दर्शाता है। दसवें दिन, शिया मुसलमान सड़कों से जुलूस निकालते हैं। वे सड़कों पर नंगे पैर चलते हैं। वे हुसैन के लिए शोक के कार्य के रूप में जोर से गाते हैं और दबाव डालते हैं। उसी उत्सव को मुहर्रम की छुट्टी 2020 के दौरान मनाया जाता है।

मोहर्रम की छुट्टी के दौरान लोगो की जीवन शैली- Muharram Julus 2020

अंतिम दिन मुहर्रम का दसवां दिन, देश में राजपत्रित अवकाश है। इसलिए, दिन पर डाकघर, बैंक और सरकारी कार्यालय बंद रहेंगे। इस्लामिक व्यवसाय और स्टोर बंद हो सकते हैं या काम के घंटे कम कर सकते हैं। बड़ी परेड, मार्च और प्रार्थना सभाएं यातायात में स्थानीय व्यवधान का कारण बन सकती हैं। त्योहार के दौरान मुस्लिम बहुल इलाकों में यातायात के मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है।

मोहर्रम के जुलुस पर सुप्रीम कोर्ट का क्या फैसला रहा?(Muharram Julus 2020)

मोहर्रम के जुलुस पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनते हुई कहा है की हम इस बार मोहर्रम पर जुलुस निकलने की अनुमति नहीं दे सकते है, क्योकि अगर हम हम जुलुस निकलने का आदेश दे देते है तो इससे दो समुदयो के बीच अराजकता का माहौल रहेगा और यदि इस जुलुस के दौरान कोरोना पॉजिटिव आ जाता है तो देश मैं इसका बहुत बरस प्रभाव पड़ेगा| इन सब बातो को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले मैं कहा है की हम इस बार मोहर्रम पर जुलुस निकलने की अनुमति नहीं दे सकते है|

Govind Areal news

Hi, I am Govind Author of the Arealnews.com. I am passionate about Blogging & Digital Marketing.  I have 3Years expressions of Blogging and Digital Marketing

Leave a Reply