लड़के काम के लिए छोड़ रहे पढाई

 8वी तक लड़को के पीछे लड़किया पर 9वी के बाद लड़के पिछड़े ,उच्च शिक्षा में अनुपात 1 के बदले 1.45

राज्यों में देखा जाए तो पहली से लेकर 8वी तक लड़कियों के मुकाबले स्कूलों में लड़के ज्यादा पढाई कर रहे है | लेकिन 9वी के बाद लड़के पढाई में काम होते जा रहे है और लड़किया पढाई में अधिक होती जा रही है | उच्च शिक्षा विभाग के आंकड़ों को देखे तो 2004 में सिर्फ एक लड़के के पीछे 0.7 लड़किया ही पढाई करती थी | 15 साल बाद यह आंकड़ा बढ़कर 1.46 पर पहुंच गया है | अगर देखा जाए तो एक लड़के के पीछे लड़कियो का अनुपात डेड गुना है | लोगो का मानना है लड़किया जो शिक्षा के लिए कोसिस कर रही है उसका लाभ दिख रहा है | पूर्व एडिशनल चीफ सेक्रेटरी बीकेइस रे के मुताबिक लड़किया करियर माइंड हो गयी है | वेआगे बढ़ना चाहती है और पढ़ना चाहती है |

आंकड़ों को समझे –

वर्ष 2017-18 में                                     वर्ष 2018-19 में
क्लास        छात्र          छात्राये             क्लास        छात्र               छात्राये
V            263345      257935            V           262959          252828
VIII         263237      252665            VIII        260533          257852
IX           248483      241988            IX          269458          266874
X            210545      237052            X           183829          226194
XI           130861      146210             XI         142853          161807
XIII         133869      138660             XIII       131053          143428

  •  प्राथमिक और उच्च शिक्षा विभाग के आंकड़े चौकाने वाले |
    शिक्षाविदों का मानना लड़कियों में आगे बढ़ने की और पड़ने ललक ज्यादा |

ग्रामीण इलाको में ज्यादा ड्रॉपआउट

राज्ये के ग्रामीण इलाको में 8वी के बाद स्कुल छोड़ने वाले लड़के ज्यादा | अगर आंकड़ों के मुताबिक देखा जाए तो लड़कियों की संख्या भी काम है लेकिन लड़को से काम नहीं है | ज्यादतर लड़के 10वी के बाद ITI करने निकल जाते है इसलिए भी इनकी संख्या में कमी दिखाई देती है |

 

नयी योजनाओ पर काम कर रही सरकार

आंकड़े बालिका शिक्षा की माँ बाप के बढ़ते रुझान को दिखाते है बालिकाएं भी पढ़ना चाहती है | जहाँ तकलड़को की कमी की बात है तो उन्हें पूरी सुविधाएं दे रहे है जो कमिया रह गयी है उनपर फोकस करेंगे ,सरकार नयी योजनाओ पर ध्यान दे रही है |

Leave a Reply